Ultimate magazine theme for WordPress.

वृक्षारोपण जागरूकता अभियान को सफल बनाने को लेकर बैठक आयोजित

देवताल गाउपालिका सामाजिक शंदेश
0 764
cin bigyapan

 

 

प्रसौनी गापा सामाजिक संदेश ०७८

सुपौल,संवाददाता

 

 

फेटा गापा सामाजिक संदेश ०७८

रविवार को वृक्षारोपण सह जागरूकता अभियान को सफल बनाने के उद्देश्य से नवोदय एलुमनी एसोसिएशन की एक बैठक वरिष्ठ एलुमनी संतोष मिश्रा की अध्यक्षता आयोजित की गई।

विश्रामपुर गापा सामाजिक संदेश ०७८
cin bigyapan

नवोदय कोचिंग सेंटर परिसर में आयोजित बैठक में प्रमोद कुमार प्रवीण, शशांक राज, मनोज कुमार रजक, अंभु आनंद, मो० नसीम, गुणसागर साहू, मो० हासिम, मिथिलेश कुमार मिहिर, नदीम इकबाल आदि मौजूद थे।

बैठक में सर्वसम्मति से पूरे जिले में वृक्षारोपण सह जागरूकता अभियान चलाने का निर्णय लिया गया। इस अभियान के तहत विभिन्न विद्यालय, महाविद्यालय, सरकारी एवं गैर सरकारी संस्थानों को जोड़कर इस लक्ष्य को पूरा किया जाएगा। इस अभियान में नवोदय एलुमनी व अन्य सहयोगी शामिल रहेंगे। बताते चलें कि नवोदय एलुमनी एसोसिएशन की राज्य स्तरीय कमेटी द्वारा बिहार के सभी जिलों में वृक्षारोपण सह जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान के तहत पूरे राज्य में लगभग 5 लाख पौधे लगाए जाने की संभावना है। इसी कड़ी में सुपौल जिला कमेटी द्वारा 11000 पौधारोपण का संकल्प लिया गया। वरिष्ठ एलुमनी संतोष मिश्रा ने कहा कि कोई काम छोटा नहीं होता है। यह धरती पर जीवन बचाने का अभियान है। कई नवोदय एलुमनी बड़े बड़े सरकारी पदों पर रहते हुए इस अभियान से जुड़कर अपना योगदान दे रहे हैं। उन्होंने सभी नागरिकों से इस अभियान में जुड़ने तथा अपना महत्वपूर्ण योगदान देने के लिए आह्वान किया। वहीं शशांक राज ने हर अवसर पर पेड़ लगाने की अपील करते हुए कहा कि आज धरती जल रही है। तापमान बढ़ता जा रहा है, जलस्तर घट रहा है। प्रदूषण की वजह से पर्यावरण संतुलन बिगड़ता जा रहा है। इसके संरक्षण की आवश्यकता है। इन सभी समस्याओं का निदान वृक्षारोपण है। श्री राज ने बताया कि नवोदय एलुमनी एशोसिएशन के फेसबुक पेज के माध्यम से सभी एलुमनी अपने सुझाव दे सकते हैं। वहीं गुणसागर साहू ने कहा कि वृक्षारोपण सह जागरूकता अभियान के माध्यम से अपने आने वाली पीढ़ी को सकारात्मक संदेश देना है साथ ही धरती को जीवन के अनुकूल बनाने के प्रयास में सभी को अपना योगदान देना चाहिए। इस अभियान को सफल बनाने में वन विभाग, कृषि विभाग एवं शिक्षा विभाग का सहयोग अति आवश्यक है।

cin bigyapan