Ultimate magazine theme for WordPress.

मॉब लिंचिंग के खिलाफ समाहरणालय के सामने धरना व प्रदर्शन।

देवताल गाउपालिका सामाजिक शंदेश
0 1,749
cin bigyapan
प्रसौनी गापा सामाजिक संदेश ०७८

महताब आलम। समस्तीपुर:देश, प्रदेशों में हो रहे लगातार मॉब लिंचिंग के खिलाफ आज समस्तीपुर जिले में वतन विकास संगठन के नेतृत्व में अन्य राजनीतिक और गैर राजनीतिक संगठनों ने मिलकर विशाल आवामी जुलूस निकाला। विभिन्न जिलों, प्रखंडों और कस्बे से आए लोगों ने इस जुलूस में शिरकत हो कर मॉब लिंचिंग के खिलाफ अपनी नाराजगी जाहिर की।

फेटा गापा सामाजिक संदेश ०७८

आए हुए लोगों को नेतृत्व करते हुए वतन विकास संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष सह वरीय अधिवक्ता अंजार उल हक सहारा और प्रदेश अध्यक्ष सैयदउल जफर अंसारी ने , चीनी मिल से जुलूस को आगे बढ़ाते हुए समाहरणालय के सामने जोरदार प्रदर्शन व समाहरणालय का घेराव करते हुए मोब लिंचिंग के खिलाफ जोरदार नारे लगाएं। जुलूस में शिरकत किए लोगों ने मोदी सरकार को कठपुतली बताया ,और भाषण देते हुए वरीय अधिवक्ता व विकास संगठन के सुप्रीमो ने अपने भाषण में कहा कि देश में आज हर ओर अराजकता फैला हुआ है देश में गुंडे मवाली का राज है।

विश्रामपुर गापा सामाजिक संदेश ०७८
cin bigyapan

अल्पसंख्यक, कमजोर वर्गों के विरुद्ध की जा रही हिंसक घटनाओं के पीछे मोदी सरकार का मौन सहमति दिखती है। और हाल ही में हुए तबरेज अंसारी की धर्म के नाम पर मोब लिंचिंग की गई हत्या राष्ट्रद्रोह है। जिसका विरोध यू एन ओ समेत हर देश में हो रहा है।वतन विकास संगठन के प्रदेश अध्यक्ष सैयदउल जफर अंसारी ने अल्पसंख्यक एवं अनुसूचित जाति के लोगों के तमाम इच्छुक लोगों को एक विशेष ड्राइव चलाकर आर्म्स लाइसेंस देने की मांग की है।

और यह भी कि मृतक तबरेज अंसारी के परिजनों को 5 करोड़ की क्षतिपूर्ति दे। इस जुलूस को सफल बनाते हुए सीपीआई माले, भीम आर्मी, बामसेफ, गुरुद्वारा, चर्च, और जमीअतुल उलमाई हिंद,एम आई एम बिहार यूथ फेडरेशन आजाद हिंद सेना इत्यादि संगठनों के अध्यक्षों ने मिलकर एक सुर में मोदी के खिलाफ नाराजगी जाहिर करते हुए, मोदी सरकार से आग्रह किया है कि मोब लिंचिंग जैसे अप्रिय घटना के लिए भी एक कानून बनाई जाए।

सभा में मौजूद अन्य वक्ताओं ने भी अपने विचार परामर्श जाहिर किए। जिनमें डॉक्टर इकबाल ,मोहम्मद शमी, मन्नू पासवान ,भीम आर्मी के जिला संयोजक, मोहम्मद अजीम पूर्व मुखिया और अन्य लोग मौजूद थे।

cin bigyapan